Monday, April 2, 2012

बारिश...




बारिश की बूंदों में ये जिस्म घुलता जा रहा है
कहीं एक गहरा जख्म और सुलगता जा रहा है...


कुछ बूँदें गुम हो गयीं, कुछ ज़मीं में जज़्ब हो गयीं
मगर एक काफिला सिर्फ मुझे ढूँढता आ रहा है...


रिश्तों की गहरी धुंध मेरा रास्ता रोके खड़ी है
कोई अजनबी उसे चीरता हुआ करीब आ रहा है...


एक घना बदल था जिसे हवा का झोंका उड़ा ले गया
वहीँ छोटा सा एक टुकड़ा आँधियों से लड़ता जा रहा है...


हर एहसास को दफ़न करके साँसे ले रही थी
ये कौन है जो अब मुझे जीना सिखा रहा है ...


कब से ज़िन्दगी की किताब ख़त्म करने में लगी हूँ
ये वक्त है की नयी कहानियाँ लिखता जा रहा है...

69 comments:

  1. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ....मन खिल गया पढ़ कर ....
    बहुत आभार

    ReplyDelete
  2. ....लाज़वाब अहसास...दिल को छूती बहुत सुन्दर प्रस्तुति..!!!

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब !
    उम्र भर सुनी दिमाग की आपने
    आज दिल आपका अपनी सुना रहा है ||
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  4. itna achha padhne ke baad, kuch kahna zaroori hai kya ?? :))

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर......................
    लाजवाब गज़ल क्षितिज जी.
    too good!!!!

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर ...हर लफ्ज़ दूसरे का पूरक ....पहली बार आना हुआ आपके ब्लॉग पर ...मज़ा आ गया

    ReplyDelete
  7. सुभानाल्लाह........हर शेर बेहतरीन और शानदार...मुकम्मल ग़ज़ल.....दाद कबूल करें।

    ReplyDelete
  8. आप सभी गुनीजनो का धन्यवाद ... :)

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत खूब लिखा है आपने बहुत ही सुंदर भाव संयोजन बधाई...

    ReplyDelete
  10. आज यूँ ही कुछ अपने के ब्लॉग पर जा रहा हूँ , यहाँ आया और तुम्हैरी लिखी नज्मो को पढ़ रहा हूँ , मुझे लग रहा है कि नहीं आना था. मेरे आंसुओ का क्या ..जो तुम्हारी लिखी पंक्तियों को पढकर बह रहे है. बधाई शब्द छोटा है .
    विजय

    ReplyDelete
  11. lajabab gajal... kahin aur aapki comment dekhi to wahan se aapke blog tak aa pahucha...!!
    par behtareen rachna..!

    ReplyDelete
  12. वाह! बहुत बढिया लिखा है।

    ReplyDelete
  13. आपका लिखना एक कयामत है
    आपको पढ़ना भी कयामत है
    सोचिए कि कितनी कयामतों से गुजर रहे हैं
    आपको पढ़ने वाले
    काबिल-ए-तारीफ ।
    हर एहसास को दफ़्न करके सांसे ले रही थी
    ये कौन है जो अब मुझको जीना सिखा रहा है।
    स्वागत है.......नई फुहारों में भी बारिश का सा एहसास मिल रहा है।

    ReplyDelete
  14. आपकी सक्रियता देखकर बहुत खुशी हुई |अच्छी गज़ल और ब्लॉग पर आने के लिए आभार |शायर अहमद फराज का एक शेर आपके लिए -
    रंजिश ही सही दिल को दुखाने के लिए आ
    आ फिर से हमें छोड़ के जाने के लिए आ |

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  16. शुक्रिया आप सभी का ... :)

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया रचना,सुंदर लाजबाब अभिव्यक्ति,बेहतरीन पोस्ट,....
    क्षितिजा जी,...आपकी पोस्ट पर आना अच्छा लगा,रचनाये पसंद आई
    फालोवर बन गया हूं,आपभी बने मुझे खुशी होगी,...आभार

    WELCOME TO MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    ReplyDelete
  18. बहुत खुबसूरत कोमल अहसास और सुंदर शब्द संयोजन.......

    ReplyDelete
  19. बढ़िया अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  20. वाह बहुत सुन्दर उम्मीदों और उमंगों, आशा और विश्वास से लबरेज एक जीवंत सन्देश!

    ReplyDelete
  21. wah kya khoob likha hai apne ....badhai

    ReplyDelete
  22. बहुत खूबसूरत लिखा है आपने !

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर सृजन , बधाई.

    कृपया मेरे ब्लॉग "meri kavitayen"पर भी पधारने का कष्ट करें, आभारी होऊंगा.

    ReplyDelete
  24. रिश्तों की गहरी धुंध ...
    बहुत ही लाजवाब लगा ए शेर ... पूरी गज़ल मर्म को छूती है ...

    ReplyDelete
  25. बहुत बढिया.....

    ReplyDelete
  26. जितनी जिन्दगी समेटने का यत्न करें, यह उतनी ही फैलती जाती है।

    ReplyDelete
  27. बहुत खुबसूरत अहसास से भरी रचना....

    ReplyDelete
  28. रोज नए अफसाने बने और गुनगुनाने रहे . आमीन .

    ReplyDelete
  29. ये वक्त और नई नई कहानियां लिखे । और आप की नई रचनाएं हम पढते रहें सराहते रहें ।

    ReplyDelete
  30. आशा और आकांक्षाओं में डूबती उतराती बेहतरीन प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  31. बहुत ख़ूबसूरत...हर पंक्ति दिल को छू जाती है....

    ReplyDelete



  32. रिश्तों की गहरी धुंध मेरा रास्ता रोके खड़ी है
    कोई अजनबी उसे चीरता हुआ करीब आ रहा है…

    … …
    भाव, भावना, भावुकता ने मिल कर काम किया है …
    अधिक कुछ कहते नहीं बन रहा … …

    क्षितिजा जी
    सुंदर प्रयास के लिए साधुवाद !!

    जयकृष्ण राय तुषार जी के कहे पर मत जाइएगा :)
    [मुझ जैसे अनाड़ी तक की तारीफ़ कर दिया करते हैं :))]
    ग़ज़ल भी हो जाएगी … अच्छी और बहुत सारी ग़ज़लें पढ़ती रहें … बस !
    :)

    शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  33. कब से ज़िन्दगी की किताब खत्म करने में लगी हूँ
    ये वक़्त है की नई कहानियां लिखता जा रहा है ....

    क्या बात है बहुत खूब ....!!

    ReplyDelete
  34. सुन्दर प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।
    http://vangaydinesh.blogspot.in/2012/02/blog-post_25.html
    http://dineshpareek19.blogspot.in/2012/03/blog-post_12.html

    ReplyDelete
  35. vakt hi tay karega jindagi ki kahani ki avadhi. behad khoobasurat andaj haen aapke.

    ReplyDelete
  36. वाह बहुत खूब लिखा हैं आपने ............आपके ब्लॉग का नाम और मेरे पहले संग्रह का नाम एक सा हैं ...........http://www.facebook.com/pages/Kshitija/105719209555331


    कुछ शब्द मेरे भी ........
    तेरी यादों को संभाल के ,रखूं कब तक |
    आँसू आँखों के उछाल के ,रखूं कब तक ||.......अनु

    ReplyDelete
  37. पहली बार आपके ब्लॉग में आया,आपकी रचना व लेखनशैली प्रभावशाली है. शुभकामनायें

    ReplyDelete
  38. बहुत सुंदर लिखा है।

    ReplyDelete
  39. बेहतरीन अंदाज़..... सुन्दर
    अभिव्यक्ति.......

    ReplyDelete
  40. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  41. एक क्षितिज सी ....बहुत खूबसूरत ...
    ह्रदय की कोमल अभिव्यक्ती ....
    शुभकामनायें क्षितिजा जी .

    ReplyDelete
  42. bahut achhi gazal.......
    .....about ur blog 'el sadharan sa niyam hai.......' is just ultimate

    ReplyDelete
  43. बढ़िया रचना ...
    आभार आपका !

    ReplyDelete
  44. bahut badhiyaa geet man ko bhogo gaya,,,

    ReplyDelete
  45. Aaj Jindagi mujhe us haveli si lagti hai jo nani ke ghar ke peeche hi thi..ek khandahar ho chuki haveli jinmen 200 se upar kamre the...Kamre jo kabhi vyast the aaj khali hain...gallery men ghoomte ghoomte aksar lagta tha ki koi aahat si hogi aur koi darwaja khulega...koi kamre men bulakar koi dilchasp kissa kahega...par kabhi koi darwaja na khula...aaj bhi aksar wahan jaata hun us ummeed men hi ki kabhi to koi darwaja khulega.

    ReplyDelete
  46. रिश्तों की गहरी धुंध मेरा रास्ता रोके खड़ी है
    कोई अजनबी उसे चीरता हुआ करीब आ रहा है...

    हरेक पंक्ति मानो भावों के चित्र बना रही हैं !
    बहुत ही सुंदर ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  47. कब से ज़िन्दगी की किताब ख़त्म करने में लगी हूँ
    ये वक्त है की नयी कहानियाँ लिखता जा रहा है...
    बहुत खूबसूरत बयाँ किया है आपने वाह!

    ReplyDelete
  48. शब्द चयन -सुन्दर
    भाव -प्रभावशाली |
    बहाव- लाजवाब ||

    ReplyDelete
  49. वाह....बहुत खूबसूरत लगी पोस्ट....शानदार।

    ReplyDelete
  50. सुन्दर अहसासों से भरी सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  51. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  52. कब से ज़िन्दगी की किताब ख़त्म करने में लगी हूँ
    ये वक्त है की नयी कहानियाँ लिखता जा रहा है...
    आज पुन; आपकी रचना पढी,उपरोक्त पंक्तियाँ मन को छू गयी

    ReplyDelete
  53. आपका लेखन ज़बरदस्त हैं

    ReplyDelete
  54. आपकी सभी प्रस्तुतियां संग्रहणीय हैं। .बेहतरीन पोस्ट .
    मेरा मनोबल बढ़ाने के लिए के लिए
    अपना कीमती समय निकाल कर मेरी नई पोस्ट मेरा नसीब जरुर आये
    दिनेश पारीक
    http://dineshpareek19.blogspot.in/2012/04/blog-post.html

    ReplyDelete
  55. कब से ज़िन्दगी की किताब ख़त्म करने में लगी हूँ
    ये वक्त है की नयी कहानियाँ लिखता जा रहा है..
    laajavaab

    ReplyDelete
  56. क्षितिजा जी,
    नमस्ते!
    ज़िन्दगी यूँही चलती रहे....
    आशीष
    --
    द नेम इज़ शंख, ढ़पोरशंख !!!

    ReplyDelete
  57. बेहतरीन गज़ल है!! :)

    ReplyDelete
  58. दिल से उछलकर निकली एक इमानदार रचना...रच-रच के किया गया शब्द संयोजन....
    दिल की मानिये ...दिमाग की सुनिये ...और सेहत का ख़्याल रखिये। कानपुर की गन्दगी भरे माहौल में टायफ़ायड होना स्वाभाविक है। पीएच.डी. के लिये मंगलकामनायें। तुम्हारा विषय बहुत बहुत बहुत रुचिकर है, मुझे तो सोचकर ही आनन्द आ रहा है।

    ReplyDelete
  59. ये वक़्त है कि नयी कहानियां लिखता जा रहा है......

    सच..... बहुत ही सुन्दर लिखा है आपने....

    ReplyDelete

Related Posts with Thumbnails